Join us?

plz join with us
देश

National news : जेसीबी लिटरेचर फाउंडेशन ने पहली बहु-संवेदी, समावेशी-शिक्षण की शुरुआत की

National news : जेसीबी लिटरेचर फाउंडेशन ने पहली बहु-संवेदी, समावेशी-शिक्षण की शुरुआत की

जयपुर। जेसीबी लिटरेचर फाउंडेशन ने एक्सेस फॉर ऑल के सहयोग से, इस शुक्रवार को जयपुर में उमंग सेंटर ऑफ स्पेशल एजुकेशन में अपने विशेष एक्सेसिबल लर्निंग बॉक्स – सुगम्य क़िस्सा पिटारा का लोकार्पण किया। इस साल जनवरी में द्वारका दिल्ली के समाधान केंद्र में इस तरह का पहला संसाधन केंद्र शुरू करने के बाद, फाउंडेशन का यह दूसरा विशेष प्रयास है।
सुगम्य किस्सा पिटारा सिर्फ एक सीखने का जरिया नहीं है; यह शिक्षा लेने का एक परिवर्तनकारी अनुभव है. विशेष आवश्यकताओं के लिए बड़े फ़ॉन्ट, संवेदी, मूक और व्यवहार संबंधी पुस्तकों जैसे विविध उपकरणों की विशेषता के साथ, यह पहल ब्रेल और बड़े फ़ॉन्ट के साथ स्पर्श और संवेदी पुस्तकों के माध्यम से दृष्टिबाधित बच्चों की विशेष आवश्यकताओं को संबोधित करती है, जो सभी के लिए शिक्षा प्राप्त करने की सुगमता को सुनिश्चित करती है।सार्वभौमिक डिज़ाइन सिद्धांतों के साथ तैयार किया गया, प्रत्येक सुगम्य क़िस्सा पिटारा व्यक्तिनिष्ठ अनुभव के साथ, सुरक्षित और उपयोग में आसान है, जिसमें विशेषज्ञ कलाकारों द्वारा निर्मित विशेष फर्नीचर शामिल है जो सीखने के माहौल में एक समावेशीता का पुट डालता है। बेहतर संज्ञानात्मक विकास के लिए सेंसरी मैट से सुसज्जित ये पिटारा शैक्षणिक अनुभवों के लिए एक सुरक्षित सेटिंग सुनिश्चित करता है।
पहल के बारे में बात करते हुए, जेसीबी लिटरेचर फाउंडेशन के निदेशक, मनीष तायल ने कहा, “यह जेसीबी लिटरेचर फाउंडेशन में हमारे लिए एक मील का पत्थर है, सिर्फ इसलिए नहीं कि यह पहली बार स्पेशल नीड चिल्ड्रन के लिए एक सुलभ संसाधन केंद्र की स्थापना करता है – बल्कि इसलिए कि इस तरह की परियोजना का लोगों के जीवन पर प्रभाव पड़ता है। इस परियोजना का उद्देश्य न केवल बच्चों के जीवन को आसान बनाना है, बल्कि माता-पिता, प्राथमिक देखभाल करने वालों और शिक्षकों का भी जीवन आसान बनाना है। हम पहले साल में दिल्ली और जयपुर के बाद पुणे और बड़ौदा में भी इस परियोजना का संचालन कर रहे हैं और उम्मीद है कि भविष्य में इसे और अधिक स्थानों पर ले जाया जाएगा।” कक्षा से संबंधित शैक्षणिक गतिविधियों से हट कर शिक्षा के अनुभव को अधिक समावेशी बनाने के लिए सुगम्य क़िस्सा पिटारा नई पुस्तकों, गतिविधियों और समावेशी शिक्षण विशेषज्ञों द्वारा दिए गए विशेष प्रशिक्षण के साथ माता-पिता और देखभाल करने वालों की भी सहायता करता है। हिंदी और अंग्रेजी में विशेष रूप से तैयार किए गए देखभालकर्ताओं के लिए मैनुअल घर पर प्रभावी तरीके से सीखने के माहौल को बढ़ावा देने के लिए अमूल्य अंतर्दृष्टि और सहायता प्रदान करते हैं।

यूनेस्को के अनुसार, भारत में 5-19 आयु वर्ग के 78 लाख से अधिक दिव्यांग बच्चे हैं। जिनमें से 61% किसी शैक्षणिक संस्थान में पढ़ रहे थे और लगभग 12% ने पढ़ाई छोड़ दी थी, जबकि 27% कभी स्कूल नहीं गए थे। सुलभ और समावेशी शिक्षा की तत्काल आवश्यकता को पहचानते हुए, इस पहल का उद्देश्य देश भर में विशेष आवश्यकता वाले बच्चों के लिए शिक्षा तक पहुंच बढ़ाना और सीखने में उत्साह बढ़ाना है। प्रत्येक बच्चे को सशक्त बनाने के साझा दृष्टिकोण के साथ, यह अभिनव शैक्षणिक पहल शिक्षा अंतराल को पाटने और अधिक समावेशी शैक्षणिक परिदृश्य तैयार करने का प्रयास करती है।

जेसीबी लिटरेचर फाउंडेशन के बारे में
जेबीसी लिटरेचर फाउंडेशन एक गैर-लाभकारी कंपनी है, जो इंडियन कंपनीज ऐक्ट के सेक्शन 8 के तहत रजिस्टर्ड है और जेसीबी प्राइस फॉर लिटरेचर चलाने के लिए पूरी तरह जिम्मेदार है। साल 2018 में जेसीबी इंडिया ने जेसीबी लिटरेचर फाउंडेशन की स्थापना की और इसका उद्देश्य भारत में आर्ट ऑफ लिटरेचर को प्रमोट करना है। इसके प्रमुख क्रियाकलाप में जेसीबी प्राइस फॉर लिटरेचर के लिए प्रबंधन करना है। दुनिया की प्रमुख अर्थमूविंग और कंस्ट्रक्शन इक्विपमेंट मैन्युफैक्चरर कंपनी जेसीबी वर्ष 1979 से भारत में सक्रिय है। जेसीबी की इच्छा भारत में एक ऐसी सांस्कृतिक परंपरा का निर्माण करना है, जो देश के सामाजिक और आर्थिक जीवन में अहम और दीर्घकालिक भागीदारी पर आधारित हो।

एक्सेस फॉर ऑल के बारे में
एक्सेस फॉर ऑल का उद्देश्य एक समावेशी अनुभवात्मक संस्कृति को बढ़ावा देते हुए नवीन, स्वदेशी डिजाइन और वकालत के माध्यम से भौतिक, बौद्धिक और सामाजिक पहुंच की सीमाओं को आगे बढ़ाना है। टीम एक्सेस ऑडिट, व्याख्या और शैक्षिक गतिविधियों, समावेशी आउटरीच कार्यक्रम, संवेदीकरण और जागरूकता कार्यक्रम, ब्रेल-स्पर्शक किट, ब्रेल किताबें और सीएसआर-आधारित आदान प्रदान कार्यक्रमों पर ध्यान केंद्रित करती है।

उमंग सेंटर ऑफ स्पेशल एजुकेशन के बारे में
2006 में स्थापित, उमंग जागरूक अभिभावकों द्वारा शुरू की गई एक पहल है, जो एक समावेशी समाज के लिए प्रयासरत है जो दिव्यांग बच्चों के जीवन की गुणवत्ता को बढ़ाकर सभी के लिए समान अवसर प्रदान करने का प्रयास करता है। उमंग सेरेब्रल पाल्सी, ऑटिज़्म, बौद्धिक दिव्यांगता और एकाधिक दिव्यांगता वाले व्यक्तियों को अपने से जोड़ता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button