Join us?

राजधानी

कृषि विश्वविद्यालय में भी मनाया गया अक्ती तिहार

कृषि विश्वविद्यालय में भी मनाया गया अक्ती तिहार

रायपुर। इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय में आज यहां अक्षय तृतीया के अवसर पर विश्वविद्यालय स्तरीय अक्ती तिहार समारोह का आयोजन किया गया। कुलपति डाॅ. गिरीश चंदेल ने विश्वविद्यालय प्रक्षेत्र में माटी पूजन एवं बीज संस्कार कर खेत में धान के बीजों की बुवाई की।

ये खबर भी पढ़ें : Summer special train facility for 12 trips between Surat and Brahmapur

उन्होंने ट्रैक्टर चलाकर खेतों की जुताई भी की। डाॅ चंदेल ने अच्छी फसल के लिये धरती माता से प्रार्थना करते हुवे कोठी से धान के बीज लाकर पूजा की और गौ माता को चारा भी खिलाया। इस अवसर पर इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय की आंतरिक बस सेवा का शुभारंभ भी किया गया।

ये खबर भी पढ़ें : खनिज संसाधनों की उपलब्धता और खनन गतिविधियों में देश का अग्रणी राज्य है छत्तीसगढ़: केंद्रीय खनिज सचिव

अक्ती तिहार समारोह को संबोधित करते हुए कुलपति डाॅ चंदेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ की संस्कृति में अक्षय तृतीया को किसानों द्वारा मिट्टी एवं बीजों की पूजा कर बीज बुवाई करने की परंपरा है। इस प्रकार अक्षय तृतीया के दिन से नये कृषि सत्र की शुरूआत होती है। इसी परंपरा का निर्वहन करते हुए समस्त कृषि महाविद्यालयों, कृषि विज्ञान केन्द्रों एवं बीज प्रक्षेत्रों में अक्ती तिहार समारोहों का आयोजन किया जा रहा है। डाॅ. चंदेल ने कहा कि आज का दिन मिट्टी, पानी तथा पर्यावरण की रक्षा का संकल्प लेने का अवसर भी है।

ये खबर भी पढ़ें : अवैध प्लाटिंग पर गहन नाराजगी, अभियान चलाकर कार्यवाही के निर्देश

उन्होने कहा कि इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय द्वारा छत्तीसगढ़ के किसानों को विभिन्न फसलों के उन्नत प्रमाणीकृत बीज उपलब्ध कराए जा रहे है जिससे उन्हंे अच्छी पैदावार मिल सके और अधिक लाभ प्राप्त हो सके।

ये खबर भी पढ़ें : कढ़ी पत्ते का पानी पीने से मिलेंगे कई लाभ

इस अवसर पर कुलसचिव श्री जी.के. निर्माम, निदेशक प्रक्षेत्र एवं बीज डाॅ. एस.एस. टुटेजा, निदेशक विस्तार सेवायें डाॅ. अजय वर्मा, अधिष्ठाता छात्र कल्याण डाॅ संजय शर्मा, अधिष्ठाता कृषि महाविद्यालय रायपुर डाॅ. जी.के. दास, अधिष्ठाता कृषि अभियांत्रिकी डाॅ. वी.के. पाण्डेय, अधिष्ठाता खाद्य प्रौद्योगिकी डाॅ ए.के. दवे सहित बड़ी संख्या में प्राध्यापक कृषि वैज्ञानिक उपस्थित थे।

ये खबर भी पढ़ें : When their lost mobile phone was found

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button