Join us?

एजुकेशन
Trending

आईटीआई कुरूद में मतदाता जागरूकता महोत्सव के समापन पर नुक्कड़ नाटक का उत्कृष्ट मंचन

आईटीआई कुरूद में मतदाता जागरूकता महोत्सव के समापन पर नुक्कड़ नाटक का उत्कृष्ट मंचन

आईटीआई कुरूद (ITI Kurud) में 6 सप्ताह तक चले मतदाता जागरूकता महोत्सव का समापन नुक्कड़ नाटक (Street show) के मंचन के साथ किया गया। नाटक के माध्यम से लोगों को मतदान के महत्व को समझाने और प्रभावी तरीके से मतदान करने के लिए प्रेरित किया गया। *नाटक में दिखाया गया कि प्रत्येक नागरिक के वोट की भारतीय लोकतंत्र में क्या महत्व है*। इसके अलावा, *नाटक में* भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाई और लोगों को *सोच समझकर* नेताओं का चयन करने की प्रेरणा दी।

ये खबर भी पढ़ें : पीएम मोदी रहेंगे छत्तीसगढ़ प्रवास में, शहरवासी के लिए ये मार्गों रहेगा बाधित

नाटक में गाए गए गीत लोगों के दिलों पर छाए रहे। गीत के बोल ‘अब गली गली नेता फिर आएंगे’ ने लोगों की जागरूकता को बढ़ाया और *उन्हें सोचने को प्रेरित किया। नाटक के इस गीत में दर्शाया गया कि जनता को झूठे वादों* से सावधान रहना चाहिए और *सोच समझकर सतर्कता* से नेताओं का चयन करना जरूरी है। इसके साथ ही, ‘MLA सिफारिश जो करता हमारी’ वाले बोल ने भ्रष्टाचार की आलोचना की और सोशल जस्टिस और समाज के विकास की दिशा में लोगों को सोचने पर विवश किया।

ये खबर भी पढ़ें : छत्तीसगढ़ प्रवास पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, हेलिकाप्टर में जनसभा संबोधित करने रवाना

*जिला निर्वाचन अधिकारी, मुख्य कार्यपालन अधिकारी एवं स्वीप नोडल अधिकारी धमतरी के निर्देशानुसार*, संस्था के प्राचार्य श्री योगेश देवांगन के मार्गदर्शन में सम्पूर्ण महोत्सव का आयोजन स्वीप नोडल ऑफिसर डॉ मोहित साहू, एन एस एस ऑफिसर श्री प्रेम कुमार सोनी, और सहायक स्वीप नोडेल ऑफिसर श्री चमन पाल ने किया।

ये खबर भी पढ़ें : How to Recognize Fake Paneer at Home: A Guide to Ensuring Authenticity

इस महोत्सव के अंतर्गत हर सप्ताह विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया, जिसमें मतदाता जागरूकता वर्कशॉप, रंगोली प्रतियोगिता, ऑनलाइन मतदाता परिचय पत्र बनाने की कार्यशाला, पोस्टर प्रतियोगिता, स्लोगन/नारा लेखन प्रतियोगिता, और मतदाता जागरूकता नुक्कड़ नाटक शामिल थे। सभी प्रशिक्षण अधिकारी, कर्मचारी और *प्रशिक्षणार्थी* कार्यक्रम में उपस्थित थे।

ये खबर भी पढ़ें : Health tips: कोलेस्ट्रॉल लेवल कम करने के लिए खाएं ये फूड्स

इस महोत्सव के परिणामस्वरूप, कुरूद एवं आस पास के गाँव के लोगों में मतदान के प्रति जागरूकता बढ़ी है और उन्हें *समझदारी एवं ईमानदारी से अपने नेता* का चयन करने के लिए प्रेरित किया गया है। इसके साथ ही, सामाजिक न्याय और समूह एकता के महत्व को बढ़ावा दिया गया है और लोगों में सामाजिक जागरूकता को बढ़ावा दिया गया है।

ये खबर भी पढ़ें :The Mysterious Glowing Forest of India: A Natural Wonder

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button