Join us?

plz join with us
एजुकेशन
Trending

Rajdhani News : आईटीएम विवि में जैव प्रौद्योगिकी और माइक्रोबायोलॉजी पर सेमिनार

Rajdhani News : आईटीएम विवि में जैव प्रौद्योगिकी और माइक्रोबायोलॉजी पर सेमिनार

रायपुर। आईटीएम यूनिवर्सिटी रायपुर के स्कूल ऑफ लाइफ एंड अलाइड साइंसेस ने विवि के सेमिनार हॉल में खाद्य, कृषि और स्वास्थ्य देखभाल में जैव प्रौद्योगिकी और माइक्रोबायोलॉजी के महत्व पर एक दिवसीय सेमिनार का शानदार आयोजन किया। सेमिनार का उद्देश्य स्नातक और स्नातकोत्तर छात्रों को उनके करियर पथ के लिए जैव प्रौद्योगिकी और माइक्रोबायोलॉजी का व्यावहारिक बताना था।
सिद्धचलम लेबोरेटरिज की निदेशक डॉ. भावना जैन और भारती विश्वविद्यालय से सहायक प्रोफेसर डॉ. श्वेता एन. सेमिनार के अतिथि वक्ता के रूप में उपस्थित थीं । यहां उन्होंने इन क्षेत्रों में नवीनतम दृष्टिकोण के विकास पर अपनी बातें रखी। डॉ. श्वेता ने बेहतर करियर परिप्रेक्ष्य के लिए जैव प्रौद्योगिकी और माइक्रोबायोलॉजी के व्यावहारिक ज्ञान के महत्व को समझाया। दूसरे अतिथि वक्ता डॉ. भावना जैन ने सामाजिक हित के लिए आपसी समन्वय से जीवविज्ञान और रसायनशास्त्र की भूमिका को रेखांकित किया। उन्होंने दैनिक जीवन में नैनो टेक्नोलॉजी के महत्व बतलाया। साथ ही उन्होंने छात्रों से उद्यमी बनने पर भी जोर दिया। इस आयोजन को महानिदेशक सुश्री लक्ष्मी मूर्ति से सतत मार्गदर्शन और अच्छी सराहना मिली। सेमिनार के उद्घाटन सत्र में विभागाध्यक्ष प्रोफेसर डॉ. रूपेश ठाकुर ने अतिथि वक्ताओं का स्वागत किया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर डॉ. सुमेर सिंह ने अपने संबोधन में विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी में भारत के योगदान और वैश्विक स्वास्थ्य रखरखाव में योग के महत्व को रेखांकित किया। डॉ. सिंह ने ग्रामीण विकास के महत्व पर भी जोर दिया। कार्यक्रम के उत्तरार्ध में वाद-विवाद प्रतियोगिता आयोजित की गई, जिसमें विश्वविद्यालय के 12 छात्र शामिल हुए। तनिष्का डे बीएससी बायोकेमिस्ट्री षष्ठम सेमेस्टर विजेता बनी जबकि बीएससी माइक्रोबायोलॉजी चतुर्थ सेमेस्टर की रिशिता चरण ने उपविजेता का स्थान हासिल किया। सेमिनार में लगभग 50 प्रतिभागी सक्रिय रूप से शामिल हुए। सहायक प्रोफेसर डॉ. पूर्वा मिश्रा ने सेमिनार का संचालन प्राध्यापकों के सहयोग से बड़ी कुशलता के साथ किया। तनिष्का डे और विशाल गांधी कार्यक्रम में छात्र समन्वयक रहे। सेमिनार के अंत में आभार प्रदर्शन सहायक प्रोफेसर डॉ. चैताली निरातकर ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button