Join us?

plz join with us
राजधानी

RAJDHANI NEWS: सड़क सुरक्षा पर आईटीएम यूनिवर्सिटी में हुआ विशेष सेमिनार

रायपुर। आईटीएम यूनिवर्सिटी रायपुर ने मारुति सुजुकी ड्राइविंग स्कूल के साथ मिलकर सड़क सुरक्षा जागरूकता को लेकर एक विशेष सेमिनार का आयोजन किया। सड़क सुरक्षा सेमिनार में सड़क सुरक्षा पर दस हजार से अधिक छात्रों को संबोधित करने के लिए गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में एक विशिष्ट स्थान हासिल कर चुके यातायात विभाग रायपुर से श्री टी के भोई और एमडीएस मैनेजर श्री सोनल गुप्ता गेस्ट स्पीकर के रूप में मौजूद थे।

गेस्ट स्पीकर श्री टी.के. भोई ने छात्रों को सुरक्षा युक्तियाँ, यातायात नियमों व विनियमों से अवगत कराते हुए जन सुरक्षा के लिए सड़क सुरक्षा उपायों को अपनाने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि गाड़ी चलाते समय या सड़क पर चलते समय दूसरों का सम्मान करना और उनकी सुरक्षा का ख्याल रखना सभी के लिए जरूरी है। सड़क किनारे दुर्घटनाओं, चोट और मृत्यु से बचने के लिए सड़क पर लोगों की सुरक्षा सबसे महत्वपूर्ण पहलुओं में से एक है।

इस कार्यक्रम में विश्वविद्यालय के 100 से अधिक छात्रों की उत्साहपूर्ण भागीदारी रही। सड़क सुरक्षा के बारे में छात्रों के ज्ञान का आकलन करने के लिए एक प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता रखी गई। इसके विजेताओं को मारुति सुजुकी की ओर से हेलमेट प्रदान किया गया।

व्यावहारिक शिक्षा की दिशा में यहाँ एमडीएस मैनेजर सोनल गुप्ता और उनकी टीम ने छात्रों के लिए एक लर्नर लाइसेंस अभियान और विश्वविद्यालय के छात्रों और प्राध्यापकों के लिए मारुति सुजुकी कार का एक फ्री डेमो आयोजित किया। छात्रों ने विभिन्न मॉडलों का परीक्षण करने और उनकी विशेषताओं और लाभों के बारे में अधिक जानने के अनुभव का आनंद लिया। आईटीएम यूनिवर्सिटी के 18 छात्रों को अत्यधिक रियायती शुल्क पर ऑन-द-स्पॉट लर्निंग लाइसेंस प्रदान किए गए।

आईटीएम यूनिवर्सिटी की डायरेक्टर जनरल लक्ष्मी मूर्ति ने विवि परिसर में छात्रों के लिए आगामी कौशल-उन्मुख गतिविधियों के लिए व्यापक योजना की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि आईटीएम यूनिवर्सिटी मारुति सुजुकी के सहयोग से छात्रों के हितों को ध्यान में रखते हुए ड्राइविंग स्किल्स पर एक सर्टिफिकेट कोर्स शुरू करने जा रही है। सुश्री मूर्ति ने कहा, “हम पंजीकरण की सुविधा के लिए सर्वेक्षण करने की योजना बना रहे हैं। यह जीवन कौशल को मुख्यधारा की शिक्षा के साथ एकीकृत करने, हमारे छात्रों के लिए समग्र विकास सुनिश्चित करने का हमारा तरीका है।”
कार्यक्रम का संचालन विश्वविद्यालय के प्रशिक्षण एवं प्लेसमेंट विभाग से स्फूर्ति पाठक ने किया। यह कार्यक्रम न केवल व्यावहारिक कौशल को बढ़ाने पर केंद्रित है, बल्कि एक सर्वांगीण शिक्षा प्रदान करने की विश्वविद्यालय की प्रतिबद्धता के अनुरूप भी है जो छात्रों को वास्तविक दुनिया की चुनौतियों के लिए तैयार करती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button