Join us?

आपके लिए
Trending

Special article : पहले अपना वजन घटाया, अब दूसरों को प्रेरित कर रहीं हेड कॉन्स्टेबल मेघा

Special article : पहले अपना वजन घटाया, अब दूसरों को प्रेरित कर रहीं हेड कॉन्स्टेबल मेघा

सोशल मीडिया के जरिए फैला रहीं जागरुकता

Return by T.Hussain

रायपुर . पुलिस का काम शहर में लॉ एंड ऑर्डर कायम रखना तो होता है, कुछ पुलिस वाले लोगों की सेहत संवारने में भी रुचि रखते हैं। हेड कॉन्स्टेबल मेघा शर्मा इसका उदाहरण है। इन दिनों वे सोशल मीडिया में मोटिवेशनल वीडियो पोस्ट कर रही हैं और लोगों को बता रही हैं कि कैसे फिट रहा जाए।
मेघा कहती हैं, मैं खुद मोटापे का शिकार थी। हाइपो थॉयराइड से पीडि़त होने के कारण मेटाबॉलिज्म जीरो था। मैंने तमाम जतन कर लिए लेकिन कोई फर्क नहीं पड़ा। फिर मुझे जो गाइडेंस मिला वह कारगर रहा। मैंने चार महीने में ही अपना वजन ७८ से ६६ कर लिया। मैंने अब तक लगभग 50 लोगों की काउंसिलिंग भी की है।

डांस छूटा तो डिप्रेशन में चली गई थी
मुझे स्कूल टाइम से डांस करना बहुत पंसद रहा है। बेबी होने के बाद मोटापा बढऩे लगा। मैंने जिम ज्वाइन किया। एक टाइम ही खाना खाती थी। इसके अलावा जो जैसा कहता फॉलो करती लेकिन कोई खास फायदा नहीं हुआ। मेरी एक फ्रेंड है आकांक्षा, जिसने वाट्सऐप स्टेटस पर मोटापे पर अपनी दो तुलनात्मक तस्वीरें पोस्ट की। मैंने उससे पूछा और स्वागतिका का नंबर लिया जो बाद में मेरी भी कोच बनीं। उनके बताए रास्ते पर चली और चार महीने में ही 12 किलो वेट लॉस कर लिया। तबसे मैं उन लोगों को मोटापे से मुक्ति दिलाने की मुहिम में हूं जो सभी जगह से हार गए हैं।

मोटापे से होने वाली बीमारियां
हृदय रोग: मोटापा हृदय रोग के प्रमुख जोखिम कारकों में से एक है, जिसमें दिल का दौरा और स्ट्रोक शामिल हैं।
टाइप 2 मधुमेह: मोटापे से टाइप 2 मधुमेह होने का खतरा बढ़ जाता है, एक ऐसी स्थिति जिसमें शरीर रक्त शर्करा को ठीक से नियंत्रित नहीं कर सकता है। स्ट्रोक: मोटापा स्ट्रोक का खतरा बढ़ा सकता है, जो मस्तिष्क को रक्त की आपूर्ति में रुकावट के कारण होता है।
कैंसर: मोटापे से कई प्रकार के कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है, जिसमें स्तन कैंसर, पेट का कैंसर और कोलोरेक्टल कैंसर शामिल हैं।
नींद की कमी: मोटापा ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया का खतरा बढ़ा सकता है, एक नींद विकार जो सांस लेने में रुकावट का कारण बन सकता है। ऑस्टियोआर्थराइटिस: मोटापे से ऑस्टियोआर्थराइटिस का खतरा बढ़ सकता है, जो जोड़ों में एक दर्दनाक स्थिति है। इसस बॉडी में सूजन भी बढऩे लगती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button