Join us?

राजधानी

जोड़ प्रत्यारोपण सर्जरी के बाद मरीजों ने किया डांस एवं फैशन वॉक

जोड़ प्रत्यारोपण सर्जरी के बाद मरीजों ने किया डांस एवं फैशन वॉक

रायपुर। अभी हॉल ही में रामकृष्ण केयर अस्पताल बिलासपुर में एक कार्यक्रम स्खा गया जिसमें जोड प्रत्यारोपण विशेषज्ञ डॉ. अंकुर सिंघल द्वारा सर्जरी लाम हुए मरीजों को बुलाया गया था जिसमें मरीजों ने न केवल अपना अनुभव साझा किया बल्कि फैशन वॉक व डांस करके बताया कि वह पूरी तरह से फिट है।

ये खबर भी पढ़ें : Unsecured Lending पर आरबीआई गवर्नर ने दिया बयान

कुछ मरीज तो 80 से 85 साल के मी थे जिन्होंने बताया कि कैसे वे ऑपरेशन से पहले लक्कड़ी लेकर चलते थे और आज वे बिना सहारे के अच्छी तरह से चल पा रहे है। कई मरीज ऐसे थे जो व्हील चेयर का सहारा लिया करते थे लेकिन वे भी अब ऑपरेशन के बाद सामान्य जीवन यापन कर रहे है।

ये खबर भी पढ़ें : निवेशकों ने मुख्यमंत्री से मिलकर छत्तीसगढ़ में निवेश करने में दिखाई रूचि

रामकृष्ण केयर अस्पताल के जाने-माने जोड़ प्रत्यारोपण सर्जन डॉ. अंकुर सिंघल द्वारा इन मरीजों का निजात मिनीमम कट तकनीक (MCT) द्वारा किया गया। जिसमें मरीज को तीन घंटे बाद चलाया जाता है बल्कि उन्हें सीढ़ी पर चढ़ाया जाता है जिससे उनकी रिकवरी तेजी से होती है।

ये खबर भी पढ़ें : स्वस्थ जीवनशैली के लिए जानें स्वास्थ्य संबंधी सुझाव

डॉ. सिंघल ने बताया कि मिनीमम कट तकनीक (MCT) यह है कि इसमें छोटे चीरे का ऑपरेशन होता है, चमडी पर टांका पर टांका नहीं लेते, मरीज को 3 घंटे बाद चलाते हैं, मरीज को दर्द कम होता है, उनकी फास्ट रिकवरी होती है, ब्लड ट्रांसफ्यूजन की जरूरत नहीं पड़ती है। इससे मरीज बहुत जल्द ठीक हो जाता है और लगभग 1 महीने में सामान्य जीवन में आ जाता है।

ये खबर भी पढ़ें : Kalki 2898 AD trailer released

उनके घुटने जो टेढ़े-मेढ़े थे वह भी ठीक हो गए है और वह रोजाना 4 से 5 किलोमीटर तक पैदल चल रहे है, कुछ मरीजों का जॉब भी लग चुका है क्योंकि घुटने व कूल्हे की तकलीफ की वजह से उनका जीब छूट गया था। अब वह सभी मरीज बहुत खुश है क्योंकि वह अब आसानी से सीढ़ी चढ़ पा रहे है बल्कि दौडने भी लग गए है. प्रफुल्लित मन से डांस भी कर रहे है और उन्हें लगने लगा है कि वे अब पहले की उम्र की तरह पूरी फिट है। उनकी जीवनशैली भी वैसे ही है।

ये खबर भी पढ़ें : 11 किलो गांजा के साथ दो अंतर राज्यीय तस्कर गिरफ्तार

डॉ. अंकुर सिंघल ने बताया कि ज्वाइंट आर्थोराइटिस्ट कॉमन बीमारी हैं लेकिन यह दुनिया की सबसे बड़ी बीमारी बन चुकी है और दिन ब दिन बढ़ते ही जा रही है। न सिर्फ इसमें आपको जागरूकता की जरूरत है बल्कि सही इलाज की भी जरूरत है। डॉ. सिंघल ने मरीजों को बताया कि ज्वाइंट आधौराइटिस्ट एवं उससे बचाव के साथ ही किस स्टेज में यह सर्जरी की जाती है।

ये खबर भी पढ़ें : अमेरिका में आयोजित हुआ योगा सेशन, कई लोगों ने लिया हिस्सा

रामकृष्ण केयर अस्पताल में हड्‌डी रोगों के इलाज के लिए एक बड़ी व अनुभवी टीम अपनी सेवा देती है। इसमें आर्थोपेडिक एवं ज्वाइट प्रत्यारोपण विभाग के एचओडी डॉ. पंकज घाबलिया, कसल्टेंट ट्रामा एड ज्वाइंट प्रत्यारोपण डॉ. ललित जैन, आर्थोस्कोपी एवं स्पोर्ट्स मेडिसिन के कंसल्टेंट सुमन कुमार नाग, कंसल्टेंट ज्वाइंट प्रत्यारोपण डॉ. अंकुर सिंघल के द्वारा मरीजों का इलाज किया जाता है।

ये खबर भी पढ़ें : Backward class candidate Patkar got first rank in MPPSC

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
सावन में चिकन-मटन छोड़ खाएं ये चीज बीज की ताकत: जानिए कैसे छोटे-छोटे बीज आपके स्वास्थ्य में ला सकते हैं बड़ा बदलाव एल आपकी राशि के हित में क्या हितकारी है ? धनु राशि