Join us?

व्यापार

एसएमसी अस्पताल में लगाया गया बिना तार वाला पेसमेकर

एसएमसी अस्पताल में लगाया गया बिना तार वाला पेसमेकर

एसएमसी अस्पताल में 18 मई को 72 वर्षीय महिला को आपातकालीन कक्ष में भर्ती किया गया | वह अपने घर में चक्कर आने से गिरकर बेहोश हो गयी थी। अस्पताल में उनका ECG किया गया जिसमे पाया गया की उनके दिल की धड़कन बहुत कम लगभग 30 प्रति मिनट और अनियमित थी | ECG के आधार पर मरीज को सिक साइनस सिंड्रोम की बीमारी है, ये पता चला।

ये खबर भी पढ़ें : भारत में वापस आया ब्रिटेन से 100 टन सोना

इस बीमारी में जो हृदय के अंदर साइनस नोड है जंहा पर हृदय की गति बनती है वह ख़राब हो जाता है, इसलिए हृदय गति बराबर बन नहीं पाती और इसीलिए हृदय की धड़कन कम हो जाती है। हृदय की धड़कन कम होने से मस्तिष्क में रक्त का प्रवाह कम हो जाता है जिससे मरीज बेहोश होकर गिर जाता है एवं इससे उनके जान को भी खतरा हो सकता है।

ये खबर भी पढ़ें : छत्तीसगढ़ में भीषण गर्मी से 3 लोगों की मौत

ऐसे मरीज के हृदय में परमानेंट पेसमेकर लगाने की आवश्यकता होती है जिससे 2 तार हृदय के दाहिने ओर डालते है, जो एक बैटरी से जुड़े होते है जिसे कॉलर बॉन के पास स्किन के निचे लगाया जाता है। इस प्रक्रिया में लगभग 8-10 टाँके लगाए जाते है। पुरानी पद्धति वाले पेसमेकर में एक मोटी सुई जो फेफड़े के पास नली जो हृदय से जुडी होती है उसमे डाली जाती है।

ये खबर भी पढ़ें Try drinking Pineapple Lassi once in summer

सुई डालते समय फेफड़े में छेड़ होकर हवा इकठ्ठा हो जाती है जिसे न्यूमोथोरैक्स कहते है। इसी सुई से फेफड़े के आस पास की नस को चोट होने से वंहा रक्तस्त्राव होता है इसे हिमोथोरैक्स कहते है। जंहा पर टांके लगते है वंहा पर संक्रमण होने की भी सम्भावना होती है।

ये खबर भी पढ़ें : एसईसीएल मुख्यालय के सेवानिवृत्त कर्मियों को भावभीनी विदाई दी गयी

इन सभी परेशानी से बचने के लिए हमने इस मरीज में बगैर तार वाला पेसमेकर डालने का निर्णय लिया । इस नयी प्रक्रिया में पैर के नस के माध्यम से एक लम्बा ट्यूब हृदय के दाहिने ओर डाला जाता है । इस नली के साथ एक डिलीवरी सिस्टम आता है जिसकी मदद से लीडलेस पेसमेकर जो की एक बटन के माप का होता है, उसे हृदय के राइट वेंट्रिकल के दिवार पर लगा दिया जाता है। इस प्रक्रिया में करीब आधा घंटा लगता है, इस नयी प्रक्रिया में जो पुरानी पद्धति वाले पेसमेकर में कम्प्लीकेशन होते थे, जैसे पेसमेकर के जगह पर संक्रमण, फेफड़े के चारो ओर रक्त या हवा इकठ्ठा होना इससे बचा जा सकता है। इस प्रक्रिया के बाद मरीज को अगले दिन छुट्टी दी गयी।

ये खबर भी पढ़ें : ताइवान सीमा में ड्रैगन के 10 युद्धपोत और 13 फाइटर जैट हुए ट्रैक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
सावन में चिकन-मटन छोड़ खाएं ये चीज बीज की ताकत: जानिए कैसे छोटे-छोटे बीज आपके स्वास्थ्य में ला सकते हैं बड़ा बदलाव एल आपकी राशि के हित में क्या हितकारी है ? धनु राशि