Join us?

राजधानी

आमजनों को शुद्ध पेयजल उपलब्ध करवाने का राजधानी में कार्य

आमजनों को शुद्ध पेयजल उपलब्ध करवाने का राजधानी में कार्य

रायपुर – केन्द्र सरकार के आवासन एवं शहरी कार्य मंत्रालय द्वारा महिला स्वसहायता समूहों की महिलाओं के माध्यम से जल प्रबंधन एवं उद्यानों के रखरखाव एवं संधारण हेतु अमृत मित्र योजना प्रारम्भ की गई है। अमृत मित्र योजना का प्रमुख उद्देश्य है कि अमृत शहरों में महिला स्वसहायता समूहों के द्वारा आम जनता को शुद्ध पेयजल प्रबंधन एवं घरेलू पेयजल सुविधा पहुंचायी जा सके। समूहों के जीवन यापन हेतु उक्त योजना के माध्यम से सहायता पहुंचायी जा सकती है।

ये खबर भी पढ़ें : वृद्ध सुमरिता बाई को हर माह मिलेगा निःशुल्क राशन

प्रदेश के उप मुख्यमंत्री नगरीय प्रशासन एवं विकास मंत्री श्री अरूण साव के निर्देशानुसार पेयजल सुविधा, उद्यानों के रखरखाव एवं संधारण और आम जनता के मध्य जल की उपयोगिता एवं महत्व की जागरूकता का प्रचार-प्रसार किये जाने हेतु नगर पालिक निगम रायपुर के पंजीकृत महिला स्वसहायता समूहों में से 07 समूहों को छत्तीसगढ़ शासन के नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग द्वारा निर्धारित स्वच्छता दीदी के मानदेय पर अमृत मिशन योजना के अंतर्गत निर्मित 09 उद्यानों के संचालन एवं संधारण हेतु और 12 उच्च स्तरीय जलागारों के रखरखाव एवं पेयजल प्रबंधन का कार्य दिया गया है।

ये खबर भी पढ़ें : Audit of all 102 ambulances operated in Sarguja

अमृत मित्र योजना के अंतर्गत वर्तमान में 04 समूहों के द्वारा कार्य प्रारंभ किया जा चुका है। योजना के तहत उद्यानों की नियमित साफ-सफाई, वृक्षारोपण, सौदर्याकरण एवं संधारण कार्य, जल सुरक्षा अभियान के प्रचार-प्रसार और उच्च स्तरीय जलागारों हेतु समूहों के द्वारा उच्च स्तरीय जलागारों के परिसरों की साफ-सफाई एवं अंतिम व्यक्ति तक पहुंच रहे पेयजल की प्रेशर एवं गुणवत्ता की टेस्टिंग जोनों के माध्यम से की जा रही है।

ये खबर भी पढ़ें : राज्य और केन्द्र सरकार के बेहतर समन्वय से छत्तीसगढ़ का होगा तेजी से विकास : मनोहर लाल

उच्च स्तरीय जलागारों में नियुक्त महिला स्वसहायता समूहों की महिलाओं को रावणभाठा फिल्टरप्लांट में विगत दिनों नगर पालिक निगम रायपुर के आयुक्त श्री अबिनाश मिश्रा के निर्देश पर प्रशिक्षण दिया जा चुका है। जानकारी के अनुसार उद्यानों में नियुक्त महिला स्वसहायता समूहों की महिलाओं द्वारा नियमित साफ-सफाई का कार्य प्रारंभ किया जा चुका है और देवेन्द्र नगर उच्च स्तरीय जलागार, सरजूबांधा उद्यान सहित अन्य उद्यानों, जलागारों में समूहों की महिलाओं द्वारा समाजहित में पर्यावरण संरक्षण की दृष्टि से पौधरोपण का कार्य किया जा रहा है ।

ये खबर भी पढ़ें :  प्रोटीन, फाइबर से भरपूर अरबी के पत्ते की सब्जी, आपके सेहत काे रखेगी ‘फिट’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
दिनभर कानों में लगा रहता है ईयरफोन? हो सकती हैं 5 दिक्कतें मानसिक क्षमताओं को बढ़ावा देने वाले काम आइये जानते हैं विटामिन-C के फायदों के बारे में